आंध्र प्रदेश : पति की हत्या के आरोप में महिला और उसका प्रेमी गिरफ्तार

  1. Home
  2. देश

आंध्र प्रदेश : पति की हत्या के आरोप में महिला और उसका प्रेमी गिरफ्तार

आंध्र प्रदेश : पति की हत्या के आरोप में महिला और उसका प्रेमी गिरफ्तार

विशाखापत्तनम, 23 सितंबर (आईएएनएस)। आंध्र प्रदेश के श्रीकाकुलम जिले में नहर से एक व्यक्ति के जले हुए अवशेष मिलने के पांच महीने बाद, पुलिस ने उसकी पत्नी, उसके प्रेमी और एक अन्य व्यक्ति को हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया है।


विशाखापत्तनम, 23 सितंबर (आईएएनएस)। आंध्र प्रदेश के श्रीकाकुलम जिले में नहर से एक व्यक्ति के जले हुए अवशेष मिलने के पांच महीने बाद, पुलिस ने उसकी पत्नी, उसके प्रेमी और एक अन्य व्यक्ति को हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया है।

पुलिस ने पीड़िता के मोबाइल फोन के आधार पर जांच के बाद इस मामले को सुलझाया। जांच से पता चला कि के. राजू की हत्या उसकी पत्नी सुजाता ने बी. रामू के साथ उसके विवाहेतर संबंधों में बाधा को दूर करने के लिए की थी। पुलिस ने हत्या में उसकी मदद करने वाले रामू के दोस्त के. नुकाराजू को भी गिरफ्तार किया है।

विजयनगरम के गुम्मालक्ष्मीपुरम गांव के रहने वाले राजू श्रीकाकुलम जिले के हीरामंडलम मंडल (ब्लॉक) के चिन्नाकोल्लीवलसा चले गए थे। करीब एक दशक पहले उसी मंडल की रहने वाली सुजाता से उसकी शादी हुई थी। उनके दो बच्चे थे।

पुलिस जांच में पता चला कि दंपति का अक्सर झगड़ा होता था और सुजाता के पड़ाली गांव निवासी रामू के साथ विवाहेतर संबंध थे। कुछ समय के लिए मजदूरी करने हैदराबाद गया हुआ राजू चार अप्रैल को हीरा मंडल लौटा था। तब तक सुजाता और रामू ने राजू को मारने की योजना बना ली थी।

पुलिस के मुताबिक, 6 अप्रैल को रामू और नुकाराजू ने वम्सधारा नदी के पास राजू के साथ शराब पी थी। राजू के बेहोश होने के बाद, वे उसे एक ऑटोरिक्शा में बैठाकर एलएन पेटा मंडल के पास वामसाधारा की मुख्य दाहिनी नहर के किनारे ले गए। उन्होंने ऑटो रिक्शा के इंजन को चालू करने के लिए इस्तेमाल किए गए तार से उसका गला घोंट दिया। इसके बाद आरोपियों ने शव को खेतों में फेंक दिया।

जब वे घर लौटे, तो सुजाता ने उनसे कहा कि अगर शव खेतों में पड़ा है तो कोई पुलिस को सूचित कर सकता है और इसकी पहचान की जा सकती है। उसके सुझाव पर 7 अप्रैल की रात रामू और नुकाराजू मौके पर गए और उस पर पेट्रोल डालकर शव को आग लगा दी। हालांकि, बारिश के कारण शरीर पूरी तरह से नहीं जल पाया। इसके बाद आरोपियों ने शव को नहर में फेंक दिया।

कुछ दिनों बाद नहर में अधजली लाश मिलने पर कुछ लोगों ने पुलिस को सूचना दी, जिसने संदिग्ध परिस्थितियों में मौत का मामला दर्ज किया।

यह सुनिश्चित करने के लिए कि किसी को कोई संदेह न हो, सुजाता ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई कि उसका पति लापता हो गया है। 22 अप्रैल को हीरा मंडल पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज किया गया। पुलिस ने जांच शुरू की और पीड़ित के मोबाइल फोन के कॉल डेटा को निकलवाया, जिसमें कुछ सुराग मिले। पुलिस पूछताछ के दौरान सुजाता, उसके प्रेमी और उसके दोस्त ने अपना जुर्म कबूल कर लिया।

--आईएएनएस

पीके/एसकेपी